Major Crops Of Rabi Season | रबी सीजन की प्रमुख फसल, इन फसल की खेती में होगा अधिक लाभ, इस बार कौन सी फसल की खेती करे

vks
0

 

यदि आप एक किसान है और आप यह सोच रहे है की इस बार मैं, ऐसी कौनसी फसल की खेती करे जिससे की मुझे दुगना लाभ हो? तो फिर आप बिलकुल ही सही जगह पर आए हो| इस लेख में आपको कई नई जानकारी मिलेगी और पता चलेगा की कौनसी फसल की खेती कब करना चाहिए|


यह आर्टिकल आपके सामने प्रस्तुत करने का हमारा मुख्य उद्देश्य है की आपको जानकारी मिले की किस सीजन में कौनसी फसल की खेती करना चाहिए|




रबी फसलों की खेती की प्रमुख जानकारी  

हमारे भारत देश में फसल को उनकी उपज के समय के हिसाब से फसलों को दो विभिन प्रकार में बाटा गया है| पहले है खरीफ फसल और दूसरा है रबी फसल| खरीफ फसल बरसात के मौसम में की जाती है और रबी फसल शीत ऋतु में की जाती है| 


रबी फसल वो फसल है जिनकी बुआई बरसात के बाद होती है और कटाई गर्मी के समय होती है| रबी फसल खेती ठंड के समय की जाती है| रबी फसल की बुआई अक्टूबर से नवंबर के बीच होती है|


जब मानसून होता है तब रबी फसल की बुआई चालू हो जाती है| यानी रबी की फसल शीत ऋतु में होती है परंतु इसमें सिंचाई की आवश्यकता अधिक होती है|


रबी फसल की कटाई मार्च से अप्रैल के बीच में होती है, रबी फसलों को रबी इस लिए कहा जाता है क्योंकि अरबी भाषा में रबी का मतलब बसंत होता है और रबी फसल भी बसंत के मौसम होती है यही कारण है की इस फसल को रबी फसल कहा जाता है|

रबी फसल की बुआई

रबी फसल की बुआई अक्टूबर से नवंबर के बीच में होती है इस फसल की बुआई के समय कम तापमान होता है और जब यह फसल पकने लग जाति है या फिर इसकी कटाई के समय गर्मी का वातावरण रहता है| रबी फसल एक ऐसी फसल है जिसको बुआई के समय ठंड की आवश्यकता होती है और फसल पकने पर गर्मी की आवश्यकता होती है|


रबी सीजन में किसान कई तरह की फसल की खेती करते है जैसे की - गेहूं, सरसो, अलसी, चना, जौ और भी आदि खेती किसान रबी सीजन में करते है|


रबी फसल के अंर्तगत आने वाली फसलें

रबी फसल में कई फसल आती है जिसके की - - गेहूं, सरसो, अलसी, चना, जौ और भी आदि खेती किसान रबी सीजन में करते है|

  • गेहूं की खेती : भारतीय कृषि विभाग के अनुसार फसल का उत्पादन बड़ाने के लिए उनका सही समय पर बुआई करना अत्यधिक है| गेहूं की फसल की बुआई का समय 1 नवम्बर से 20 नवंबर तक है| इसकी खेती भारत में सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश राज्य में इसकी खेती सर्वाधिक होती है|

  • जौ की खाती : जौ की बुआई का सही समय 1 नवंबर से 30 नवंबर तक का बुआई का सबसे बेस्ट समय है| भारत देश के कई क्षेत्रों में इसकी खेती दिसंबर माह तक भी इसकी बुआई करते है| परंतु यह आपकी जलवायु पर निर्भर रहता है की आपकी जलवायु कैसी है|

  • अलसी की खेती :   इसकी बुआई का भी सही समय 1 नवंबर से 30 नवंबर तक का बुआई का सबसे बेस्ट समय है| जल्दी बुआई होने पर अलसी की फसल को मक्खी, किट और पाउडरी मिल्डयू का अधिक खतरा रहता है|

  • सरसो की खेती :  सरसो की बुआई करने का सबसे अच्छा समय 15 सितंबर से 15 अक्टूबर तक का होता है और सरसो की बुआई सिंचाई क्षेत्रों में 10 अक्टूबर से 30 अक्टूबर इसका सही समय है|

  • चने की खेती :  आसिचाई क्षेत्रों में चने की बुआई अक्टूबर में होती है और सिंचाई क्षेत्रों में चने की बुआई 30 अक्टूबर तक होती है| 

रबी सीजन में इन सब्जियों की करे खेती  

यदि आप रबी के मौसम में सब्जियों की खेती करना चाहते है तो आपको इसमें भी अधिक मुनाफा हो सकता है| इन सब्जियों की खेती अक्टूबर माह में की जाती है| भारत देश में किसान सब्जियों की फसल करना अधिक पसंद करता है|


रबी के सीजन आप आलू, गाजर, टमाटर, मटर, लहसुन, पालक, मैथी, धनिया, मूली, फुलगोबी, पत्तगोबी, शिमला मिर्ची आदि की फसल आप इस सीजन में कर सकते है|

  • आलू की खेती : आलू के बुआई का सही समय 10 अक्टूबर से नवंबर तक आलू के बुआई का सही समय है| बुआई के समय प्रति हेक्टर 80 से 100 किलोग्राम नाइट्रोजन, 60 से 80 किलोग्राम फास्फेट और 80 120 किलोग्राम पोटाश का उपयोग करे| इनका उपयोग करने से आलू की पैदावार बढ़ेगी और साथ ही आलू साइज बड़ा होगा|

  • फुलगोबी / पत्तगोबी की खेती : इसकी बुआई पूरे अक्टूबर माह में कर सकते है तथा इसकी रोपाई भी 15 अक्टूबर से चालू कर सकते है|

  • पालक / मैथी / धनिया / मूली : पालक, मैथी, धनिया, मूली इन सभी सब्जियों की बुआई कृपया आप कतारों में करे| इसका बुआई का समय अक्टूबर से नवंबर तक का है| यदि आप किसी कारण से इसकी बुआई में देरी हो जाती है तो आप अपने समय अनुसार भी इसकी बुआई कर सकते है|

  • लहसुन की खेती : लहसुन की बुआई का सही समय मध्य अक्टूबर से मध्य नवंबर है| लहसुन की बुआई 500 से 700 किलोग्राम प्रति हेक्टर दर से 158*7.5 सेंटीमीटर की दूरी पर करे|

  • मटर की खेती : मटर की बुआई का सही समय नवंबर है मटर के लिए बुआई के समय आपको 30 किलोग्राम नाइट्रोजन, 60 किलोग्राम फास्फेट और 40 किलोग्राम पोटाश का उपयोग करना है|




Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top